यूक्रेन को हमने मानवीय सहायता भी की प्रदान: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

तुर्कमेनिस्तान: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अश्गाबात में बग्यारलिक स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में योग और पारंपरिक चिकित्सा केंद्र का दौरा किया और महात्मा गांधी को पुष्पांजलि अर्पित की।

राष्ट्रपति ने महात्मा गांधी को पुष्पांजलि अर्पित की

इस दौरान अंतर्राष्ट्रीय संबंध संस्थान में भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि इंडो-पैसिफिक के साथ भारत का जुड़ाव कई शताब्दियों पुराना है। हम इंडो-पैसिफिक में एक खुली, संतुलन, नियम आधारित और स्थिर अंतर्राष्ट्रीय व्यापार व्यवस्था के लिए खड़े हैं।

इंडो-पैसिफिक के साथ भारत का जुड़ाव कई शताब्दियों पुराना

साथ ही अंतर्राष्ट्रीय संबंध संस्थान में भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बोले भारतीय विदेश नीति का प्रमुख स्तंभ नेबरहुड फर्स्ट नीति है। नेबरहुड फर्स्ट की नीति कनेक्टिविटी, व्यापार और निवेश को बढ़ाना है। इंडो-पैसिफिक जिओ पॉलिटिक्स की शब्दावली में हाल में जोड़ा गया है।

भारतीय विदेश नीति का प्रमुख स्तंभ नेबरहुड फर्स्ट नीति

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि यूक्रेन में चल रहे संघर्ष पर भारत की स्थिति स्थिर और सुसंगत रही है। हम बिगड़ती मानवीय स्थिति के बारे में गहराई से चिंतित हैं और हिंसा को तत्काल रोकने और संवाद और कूटनीति के पथ पर लौटने का आह्वान किया है। हमने यूक्रेन को मानवीय सहायता भी प्रदान की है।

चार समझौतों पर हुए हस्ताक्षर

आपको बता दें कि राष्ट्रपति तुर्कमेनिस्तान दौरे पर है। इसी के साथ भारत और तुर्कमेनिस्तान ने आपदा प्रबंधन और वित्तीय आसूचना समेत विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग के लिये चार समझौतों पर हस्ताक्षर किए। उन्होंने बहुआयामी साझेदारी को और मजबूत करने के लिए द्विपक्षीय व्यापार और ऊर्जा सहयोग का विस्तार करने पर सहमति व्यक्त की।

द्विपक्षीय और क्षेत्रीय सहयोग बढ़ाने पर चर्चा

वहीं तुर्कमेनिस्तान दौरे पर गए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अश्गाबात में अपने समकक्ष बर्दीमुहामेदोव से मुलाकात की। इस दौरान दोनों देशों के नेताओं के बीच द्विपक्षीय और क्षेत्रीय सहयोग बढ़ाने पर चर्चा हुई।

Read Also:- भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच आर्थिक सहयोग और व्यापार समझौते पर हुए हस्ताक्षर, जानें PM क्या बोले?

Follow us for More Latest News on
Author- @admin

Facebook- @digit36o

Twitter- @digit360in

Instagram- @digit360in