सेक्स लाइफ पर NFHS ने भारतीय महिलाओं के लिए किए चौंकाने वाले खुलासे

नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे-5 में भारतीयों की सेक्स लाइफ को लेकर हैरान करने वाले आंकड़े सामने आए हैं। खासतौर पर महिलाओं को लेकर। लड़कियां कम उम्र में सेक्सुअली एक्टिव हो जाती है। हालांकि इसके पीछे कई कारण होते हैं। हालांकि, नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे (NFHS) के लेटेस्ट डेटा में महिलाओं की सेक्स लाइफ को लेकर कई अहम जानकारियां सामने आई हैं।

लड़कियों के सेक्सुअली एक्टिव होने के पीछे कई वजहें

लड़कियों के सेक्सुअली एक्टिव होने की वजह कई हैं। कई लड़कियां यौन उत्पीड़न का शिकार होती हैं। भारतीय समाज में पुरुषों का दबदबा है और सेक्स के मामले में भी उनकी ही चलती है। यह भी एक वजह है। वहीं 3 प्रतिशत लड़कियों का कहना है कि 22 साल की उम्र से पहले उनका रेप हो चुका था।

10.3% महिलाएं15 साल की उम्र तक बना चुकी हैं रिलेशन

एनएफएचएस NFHS के आंकड़ों के मुताबिक भारतीय पुरुषों की तुलना में महिलाएं जल्दी सेक्सुअली एक्टिव हो जाती हैं। 15 साल की उम्र तक लड़कों की तुलना में लड़कियों में सेक्स का अनुभव करने की संभावना अधिक होती है। सर्वे में 25 से 49 साल की उम्र की महिलाओं से पूछा गया कि उन्होंने पहली बार शारीरिक संबंध कब बनाए। 10.3% महिलाओं ने माना कि 15 साल की उम्र तक उनका एक बार संबंध हो गया था। वहीं, इस उम्र में सेक्स करने वाले पुरुषों का आंकड़ा 0.8% था। भारत में सहमति से सेक्स करने की उम्र 18 साल है, लेकिन इस उम्र से कम 6% महिलाओं ने सर्वे में कहा कि उनके बीच पहले ही शारीरिक संबंध बन चुके हैं। 18 साल से कम उम्र के 4.3% लड़कों ने सेक्स करने की बात स्वीकार की।

लड़कों के लिए पहले सेक्स अनुभव की औसत उम्र 22 से 25 साल

जैसे कि अशिक्षित लड़कियों में पहली बार शारीरिक संबंध बनाने की औसत उम्र 17.5 थी जबकि 12 साल या उससे ज्यादा समय स्कूल में बिताने वाली महिलाओं में ये औसत उम्र 22.8 थी। वहीं, गरीब महिलाओं में पहले सेक्स अनुभव की औसत उम्र 17.8 साल और अमीरों में 21.2 साल थी। जबकि लड़कों के लिए पहले सेक्स अनुभव की औसत उम्र 22 से 25 साल के भीतर ही रहती है।

Follow us for More Latest News on
Author- @admin

Facebook- @digit36o

Twitter- @digit360in

Instagram- @digit360in