कोविड-19 का इलाज कैसे किया जाता है? कोरोना से जुड़े सवालों का जवाब यहां जानें

भारत में कोरोना वायरस के ओमिक्रोन वेरिएंट का फैलाव बहुत तेजी से हो रहा है। ऐसे में कोविड-19 का इलाज और उससे जुड़ी कई जानकारियों को जानना जरूरी है। भारत सरकार के दिशा-निर्दशों के साथ हम जानेंगे कोवि़ड-19 के ट्रीटमेंट से संबंधित कई सवालों का जवाब।

Covid-19 से जुड़े FAQs

कोविड -19 से संक्रमित होने पर बच्चों को क्या लक्षण होते हैं?

कोविड-19 से संक्रमित होने वाले बच्चों में आम तौर पर हल्के ठंड जैसे लक्षण होते हैं। बच्चों को हल्के बुखार, बहती नाक और खांसी जैसी समस्याएं भी होती हैं। कुछ बच्चों में उल्टी और दस्त के भी लक्षण देखे गए हैं।

कोविड-19 का इलाज कैसे किया जाता है?

ज्यादातर लोगों में केवल हल्के लक्षण होते हैं और घर पर ही देखभाल की जाए तो वह ठीक हो सकते हैं। लेकिन कुछ लोग बहुत बीमार हो सकते हैं और उन्हें अस्पताल में इलाज की आवश्यकता होती है। अस्पताल में भर्ती लोगों का चिकित्सीय टीम उनके फेफड़ों की निगरानी कर सकती है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि उनके शरीर में पर्याप्त ऑक्सीजन मौजूद रहे।

अगर मुझे बुखार या अन्य लक्षण नहीं है तो क्या मैं कोविड-19 फैला सकता हूं?

जी हां बिलकुल! आपके अंदर कोरोना का वायरस मौजूद है या नहीं, इसका परीक्षण सिर्फ लैब में ही हो सकता है। कई लोगों में कोरोना के लक्षण भी नहीं नजर आते हैं लेकिन वो कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। CDC से कोविड-19 के परीक्षण के बारे में जानकारी प्राप्त किया जा सकता है।

क्या कोविड-19 टीके का दूसरा डोज लेना आवश्यक है?

कोविड-19 से बचाव सिर्फ वैक्सीन और कुछ जरूरी सावधानी रखकर ही किया जा सकता है। केंद्र सरकार इस बात पर जोर देती है कि सभी को वैक्सीन की दो डोज लेनी चाहिए और दोनों डोज एक ही वैक्सीन की हो।

कोविड-19 के लिए बुखार की सीमा क्या है?

कोरोना वायरस होने पर व्यक्ति में कोई विशिष्ट बुखार सीमा नहीं है। बुखार आना कोविड-19 के लिए कोई विश्वसनीय लक्षण नहीं है। इससे संबंधित अन्य लक्षणों पर भी विचार करना चाहिए।

क्या वैक्सीन का पहला डोज लेने से कोविड-19 वायरस के इंफेक्शन से सुरक्षित हो जाएंगे?

इसका सीधा जवाब है नहीं। वैक्सीन का पहला डोज आपको पूर्ण रूप से सुरक्षित नहीं करता है। वैक्सीन का पूरा प्रभाव दोनों इंजेक्शन लगने के बाद ही सामने आता है।

कोविड-19 के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग क्यों महत्वपूर्ण है?

कोरोना वायरस खांसी और छींक के छोटे-छोटे कणों से फैलता है। यह हाथ मिलाने और अपने कपड़ों और वस्तुओं को साझा करने से भी फैल सकता है। इसलिए कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए सोशल दूरी या देह की दूरी जरूरी है। यही कोविड-19 का उत्तम इलाज माना जा सकता है।

कोविड-19 का इलाज कैसे किया जाता है?

  • अपने आप को एक अच्छी तरह हवादार कमरे में अलग करें।
  • ट्रिपल लेयर मेडिकल मास्क का उपयोग करें, 8 घंटे के उपयोग के बाद या इससे पहले अगर वे गीले या दिखने में गंदे हो जाते हैं तो मास्क को त्याग दें।
  • देखभाल करने वाले के कमरे में प्रवेश करने की स्थिति में, देखभाल करने वाला और रोगी दोनों एन-95 मास्क का उपयोग करें।
  • मास्क को 1% सोडियम हाइपोक्लोराइट से कीटाणुरहित करने के बाद ही फेंकना चाहिए।
  • शरीर में पर्याप्त पानी की मात्रा और हाइड्रेशन बनाए रखने के लिए आराम करें और ढेर सारे तरल पदार्थ पिएं।
  • कम से कम 40 सेकंड के लिए साबुन और पानी से बार-बार हाथ धोएं या अल्कोहल-आधारित सैनिटाइज़र से हाथ को साफ करें।
  • घर के अन्य लोगों के साथ व्यक्तिगत सामान साझा न करें।
  • बीमार व्यक्ति के शरीर के तापमान का प्रतिदिन निगरानी करें।
  • यदि लक्षणों में कोई गिरावट देखी जाती है तो उपचार करने वाले चिकित्सक से तुरंत संपर्क करें।

देखभाल करने वालों के लिए निर्देश

मास्क का इस्तेमाल: देखभाल करने वाले को ट्रिपल लेयर मेडिकल मास्क पहनना चाहिए। बीमार व्यक्ति के साथ एक ही कमरे में होने पर N-95 मास्क पर भी विचार किया जा सकता है।

हाथ की स्वच्छता: बीमार व्यक्ति या रोगी के तत्काल संपर्क में आने के बाद हाथ को अच्छी तरह से धोना चाहिए और सेनेटाइज करना चाहिए।

रोगी / रोगी के वातावरण के संपर्क में आना: रोगी के शरीर के तरल पदार्थ और श्वसन स्राव के सीधे संपर्क से बचें। रोगी की सेवा करते समय हमेशा डिस्पोजेबल दस्ताने का ही प्रयोग करें।

Follow us for More Latest News on
Author- @admin

Facebook- @digit36o

Twitter- @digit360in

Instagram- @digit360in